28 साल बाद अपने पैतृक गांव पहुंचे योगी आदित्यनाथ, माँ से मिल हुए भावुक कही ये बात


उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ मंगलवार को पहली बार अपने पैतृक गांव यमकेश्वर के पंचूर पहुंचे. यहां उन्होंने सबसे पहले पंचूर से करीब तीन किलोमीटर दूर बिठ्यानी स्थित महायोगी गुरु गोरखनाथ राजकीय महाविद्यालय परिसर में गुरु महंत अवद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण किया. इस दौरान गुरु को याद कर सीएम योगी आदित्यनाथ की आंखें नम हो गईं.

ट्वीट कर सिर्फ लिखा माँ 

अनावरण कार्यक्रम के बाद अब वह अपनी मां सावित्री देवी और परिजनों से मिलने घर पहुंचे. बेटे के गांव में आने से परिजन उत्साहित हैं. सीएम योगी के यहां पहुंचते ही उन्हें देखने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी. मां से मुलाकात के बाद सीएम योगी ने भी अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर मां के साथ एक तस्वीर पोस्ट की और कैप्शन में लिखा- मां. ट्वीट में सिर्फ ‘माँ’ शब्द लिखकर, मानो उसने अपनी सारी भावनाएँ उँडेल दी हों. वहीं इतने साल बाद अपने बेटे से मिलने के बाद सीएम योगी की मां का चेहरा खिल उठा.

भतीजे के मुंडन कार्यक्रम में शामिल होंगे योगी

अपने स्कूल के शिक्षकों का करें सम्मान

 

सीएम योगी 3 से 5 मई तक उत्तराखंड के दौरे पर हैं. वह 4 मई को पंचूर के पैतृक घर में अपने छोटे भाई महेंद्र सिंह बिष्ट के बेटे के मुंडन समारोह में शामिल होंगे. 5 मई को योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में होटल अलकनंदा का उद्घाटन करेंगे. राज्य पर्यटन विभाग और उत्तराखंड पर्यटन हेलीकाप्टर से हरिद्वार पहुंचने के बाद. इसके साथ ही ऋषियों द्वारा सम्मान समारोह का कार्यक्रम भी होता है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने स्कूल शिक्षक को सम्मान देते हुए ट्वीट किया, “आज मुझे यमकेश्वर, पौड़ी-गढ़वाल, उत्तराखंड में अपने स्कूल के गुरु के दर्शन और सम्मान करने का सौभाग्य मिला है.”