नकली Id बनाकर पत्नी ने की पति से की घंटो बात, तो एक रात में ही खुल गई पति की सारी पोल


इंदौर में एक पत्नी ने अपने पुलिस पति को मज्जा चखाने के लिए एक षड्य**त्र रचा दरअसल, पत्नी अपने पुलिसवाले पति के अत्चा**र और रंगीन मिजाजी से परेशान थीं। इस पत्नी ने फेसबुक पर फेक आईडी बनाकर अपने पति से चैटिंग करके उसकी पोल खोल के रख दी दोनों में फेसबुक पर बात करने के दौरान पुलिसकर्मी ने पत्नी को अन्य युवती समझकर Kiss और S** की डिमांड कर डाली। पत्नी ने असलियत बताई तो उसकी पैरों तले जमीन खिसक गई क्या है पूरा मामला आपको आगे बताते हैं।

पुलिस के भेस में आरोपी था

2019 में इंदौर की निवासी मनीषा चावंड की जवान सत्यम बहल से शादी हुई थी। सत्यम ने कुछ दिनों तक मनीषा को अच्छे से रखा लेकिन फिर उसके बाद इस पुलिसवाले ने अपनी पत्नी को टॉर्चर करना शुरू कर दिया। आए दिन पुलिस जवान पत्नी को शारीरिक और मानसिक रूप से प्र**ड़ित करने लगा घंटों जमीन पर बैठाकर मार**ट करता था। पत्नी को जरा-जरा सी बातों पर बाथरूम में कई घंटों तक बंद करके रखता था और घरेलू हिं** करता था।

पत्नी ने अपने ही पुलिसकर्मी पति पर दर्ज करवाई FIR

दुखी होकर पीड़िता ने अपने माता-पिता से शिकायत की, और थाने में अपने पति के खिलाफ 28 नवंबर 2020 को दर्ज करवाई गई, FIR में लिखवाया गया कि पति घर में अखबार तक भी नहीं पढ़ने देता था। यहां तक कि, लगातार पीड़िता से दहेज में मोटरसाइकल की मांग करता रहता था। इस मामले में आर!पी पति को गिरफ्तार करने के भी आदेश भी जारी हुए थे। फिलहाल कोर्ट में मामला चल रहा है। आर!पी जमानत पर बाहर है।

पत्नी ने ही खोली धोखेबाज पति का काला चिट्ठा

 

जब पीड!ता मायके में रहने लगी तो उसे अपने पति पर शक हुआ फिर उसने फेक आईडी बना कर पति को रिक्वेस भेजी पति के एक्सेप्ट करने के बाद उनके बीच चैटिंग शुरू हुई। अब रोज उन दोनो ने बात चीत होने लगी इसी बीच एक दिन पुलिसकर्मी में अपनी ही पत्नी को अन्य लड़की समझ कर सेक्!! चैटिंग की, गौरतलब Kiss और S** करने की भी डिमांड कर डाली। पीड़िता इन सब के बाद कोर्ट में व्हाट्सएप पर हुई चैट का सबूत पेश किया। जिसे जिला न्यायालय ने ध्यान में रखते हुए आगे की कार्यवाही की।

आरोपी पुलिसकर्मी को सुनाई सजा

इंदौर जिला कोर्ट ने पीड़िता के आरोपों पर आरोपियों के खिलाफ घरेलू ह**सा से संरक्षण कानून के तहत मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने बीते सोमवार को खाने-खर्चे स्वरूप 2 लाख रुपए, साथ ही हर महीने भरण पोषण के लिए भी 7 हजार रुपए महिला को देने के पति को आदेश दिए।

पीड़ित के वकील का क्या कहना है?

एडवोकेट कृष्ण कुमार कुन्हारे ने बताया कि साल 2020 में पीड़िता ने शिकायत की थी और कोर्ट में आवेदन दिया था, जिस पर जिला न्यायालय ने संज्ञान लेते हुए पति को 7000 प्रतिमाह देने का ऑर्डर दिया। अब तक के हिसाब से 2 लाख 3 हजार की रकम हो चुकी है। वहीं, पीड़ित पत्नी ने पति की सच्चाई सामने लाने के उद्देश्य से अन्य युवती बनकर उससे फेसबुक और वॉट्सऐप पर चैटिंग की, जिसमें स्पेशल ब्रांच में पदस्थ जवान सत्यम बहल ने पीड**ता से अश्ल** बातें कीं। फिलहाल पीड**ता पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से उचित न्याय की गुहार लगा रही है।