भारतीय ट्रेन में AC कोच आखिर क्यों बनाये जाते है बीचो-बीच, रेलवे अधिकारी ने बताया बड़ा कारण


भारतीय रेलवे एशिया का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है रोज़ाना हज़ारो लोग ट्रेन  से सफर करते है क्यूंकि ट्रेन हमे सही सलामत और सही समय पर हमारी मंज़िल तक पंहुचा देती है और तो और ट्रेन  का किराया भी काफी सस्ता होता है इसलिए ज़्यादातर लोग ट्रेन  से ही ट्रेवल करते है , ट्रेन  से जुड़ी काफी बाते ऐसी है जिसे लोग जानना चाहते है जैसे की ट्रेन के डब्बों में AC वाला कोच बीच में क्यों होता है आज हम आपको इसी सवाल का जवाब देने जा रहे है |

क्यों ट्रेन के बीच में होता है AC कोच 

ट्रेन का डिज़ाइन कुछ इस प्रकार होता है की ट्रेन के सबसे आगे होता  इंजन और फिर उसके बाद आता है जनरल कॉच , इसके बाद स्लीपर कोच और भीड़ आता है AC वाला कोच इसके बाद फिर से स्लीपर कोच और फिर आते है दो जनरल कॉच और अंत में होता है गॉर्ड रूम | AC कॉच हमेशा बीच में ही होता है इसके पीछे का कारण भी हमे पता चला है |

रेलवे अधिकारी ने बताया कारण 

रेलवे के अधिकारी और एक्सपर्ट ने बताया की इस सवाल का जवाब सभी लोग अलग अलग तरीके से देते है पर किसी को  सही कारण नहीं पता है | रेलवे अधिकारी ने बताया की ट्रेन में AC कोच का बीच में होने का मुख्य कारण है यात्रियों की सुरक्षा , शुरआत से ही यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए ट्रेन के डब्बे इसी तरह से आज भी डिज़ाइन होते है |

यात्रियों की सुरक्षा के लिए इस तरह डिज़ाइन होती है ट्रेन

हमेशा यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए ट्रेन के कोच को डिज़ाइन किया जाता है और AC कोच हमेशा लेडीज कम्पार्टमेंट के बीच में होता है , और ट्रेन का जो लगेज कोच होता है वो इंजन के साथ बना होता है और तो और ट्रेन का एग्जिट डोर भी हमेशा बीच में ही लगाया  जाता है जिससे AC कोच में बैठे लोगों को पहले उतरने का मौका मिले और और इससे  पहले स्टेशन पर यात्रियों की भीड़ लगे वो पहले ही आराम से उतर जाये |