कभी टीवी पर बेबाक न्यूज बोलता था ये एंकर, आज पेट भरने के लिए कर रहा है सड़को पर ऐसा काम


पिछले साल अफगानिस्तान में अचानक हालात बदल गए। सरकारी तख्तापलट ने तालिबान शासन की शुरुआत को चिह्नित किया। इसके बाद जिसे मौका मिला वह समय रहते देश छोड़कर चला गया। वर्षों पहले तालिबान ने अपने शासन में जो आतंक पैदा किया था, उसे याद करते हुए लोगों के लिए देश छोड़ना बेहतर था। लेकिन ऐसा नहीं है कि अफगानिस्तान में सिर्फ महिलाओं की जिंदगी नर्क है। इस देश में रहने वाले पुरुषों का जीवन भी नर्क के समान है। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें एक अफगान पत्रकार सड़क पर समोसा बेचते नजर आ रहा है। एंकर को अपने खर्चे पूरे करने के लिए यह काम करना पड़ता है।

वायरल हुई तस्वीरें

मार मोहम्मदी की तस्वीर इंटरनेट पर वायरल हो रही है. इसे कई लोगों ने शेयर किया। तस्वीर को अफगानिस्तान के राष्ट्रीय रेडियो और टेलीविजन के महानिदेशक अहमदुल्ला वासिक ने भी साझा किया था। इसके साथ ही ट्वीट में लिखा था कि इस पूर्व एंकर और रिपोर्टर को उनके विभाग में ही नौकरी दी जाएगी लोग सोच रहे हैं कि तालिबान के राज में मीडिया को क्या हो गया है सूट पहन कर न्यूज पढ़ने वाली एक एंकर की ऐसी हालत सभी को हैरान कर देने वाली है

कई पेशेवरों के साथ भी ऐसा ही है

जब से तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया है, तब से इस देश का यही हाल है। देश में आर्थिक और राजनीतिक उथल-पुथल थमने का नाम नहीं ले रही है. सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर कबीर हकमल, जो पहले हामिद करजई की सरकार में थे, ने ट्वीट किया कि कितने प्रतिभाशाली अफगान पेशेवर अब गरीबी में जीने को मजबूर हैं। तालिबान द्वारा कई मीडिया आउटलेट्स को धमकी देने के बाद हाल के महीनों में कई एंकरों, विशेष रूप से महिलाओं ने अपनी नौकरी खो दी है।

एंकर की हैरान कर देने वाली तस्वीर

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर अफगान पत्रकार मूसा मोहम्मदी की बताई जा रही है। जब तालिबान का राज नहीं रहा तो ये पत्रकार टीवी पर बेदाग राय के साथ दिखाई दिए। लेकिन अब जो तस्वीर वायरल हो रही है उसमें मूसा सड़क के किनारे समोसा बेचते नजर आ रहे हैं इस तस्वीर को मिस्टर हकमल ने क्लिक किया था और कैप्शन में उन्होंने लिखा था कि कैसे मूसा को अपने परिवार का समर्थन करने के लिए समोसे बेचने पड़ते हैं।