तबाही के बाद कुछ ऐसा हो गया यूक्रेन का हाल, तस्वीरें देख काँप जाएगी आपको रूह।


समय बदल रहा है समय के साथ-साथ इंसान भी बदल रहा है आज के दौर में लोगो के अंदर क्रोध व् इर्षा उजागर हो चुकी है। अब आप रूस को ही देख लीजिये आज वह अपनी ताकत का गलत इस्तेमाल कर रहा है। रूस ने यूक्रेन को तबाह करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। जहाँ एक समय था यूक्रेन जैसे देश की खुस्बूरति की तारीफ़ हुआ करती थी आज उसी देश का रूस ने बदतर हाल कर दिया है। आज पूरा एक हफ्ता हो चूका है और अब तक यूक्रेन के दस शहर तबाह हो चुके है। कई इलाके खंडहर जैसे लगने लगे हैं। सड़के बमबारी की दहशत से सूनी हो गई हैं। यूएन के आंकड़ों के मुताबिक, 10 लाख से ज्यादा लोग देश छोड़ चुके हैं। जो बचे हैं वे हताश और निराश हैं। पूछ रहे हैं आगे क्या होगा?

यह फोटो राजधानी कीव जा है जो की बोरोड्यांका की एक बस्ती की है। रूस ने बुधवार को यहा रॉकेट हमले किए।जिसके बाद से यहाँ की हालत किसी बंजर जगह से कम नहीं लग रही है , ज्यादातर इलाका जलकर खाक हो गया है। हमलों के बाद जगह-जगह आग की लपटें देखी गई। कुछ लोग डरकर बंकर में चले गए हैं, तो कुछ इलाका छोड़ने की सोच रहे हैं।इस समय इस देश में अफरा-तफरी का माहौल बन चूका है।

रूस ने जितोमिर शहर में भी तबाही मचाई। पिछले 24 घंटे से दिन भर रुक-रुक बमबारी हो रही है। कई इलाके तबाह हो चुके हैं। सुबह जब बमबारी रुकी तो लोग अपने घर पहुंचे। सबकुछ बर्बाद देख आंसू नहीं रोक पाए।जहाँ हमले से पहले ये देश बेहद शांति व् खूबसरती का प्रतिक माना जाता था वही आज ये देश एक दम तबाह व् बंजर बन चूका है। लोगो की ज़िन्दगी में आफत आ चुकी है। लोग देश छोड़ने को मजबूर हो चुके है।

कीव के मोतिजिन इलाके में एक टैंक क्षतिग्रस्त पड़ा देखा गया। इस टैंक पर ‘V’ लिखा हुआ है।यूक्रेन की सड़कें सुनसान हैं, लाशें चौराहों पर पड़ी सड़ रही हैं।लोगो को इस बात का जरा सा भी अंदाज़ा नहीं था की एक दिन यहाँ की हालत ऐसी हो जाएगी यहाँ अफरा-तफरी का माहौल बन जाएगा। लोग देश छोड़ने को मजबूर हो जाएंगे खाने पीने के लाले पड़ जाएंगे।

इन तस्वीरों को देख कर किसी का भी मन विचलित हो सकता है लोग इसे देखने के बाद दुखी हो सकते है लेकिन ये एक दम सत्य तस्वीर है बेहद बुरे दौर से इस समय यूक्रेन गुजर रहा है कई देश इनकी मदद के लिए आगे आ रहे है लेकिन इससे वहाँ रह रहे लोग सुरक्षित नहीं हुए है और अफरा-तफरी के बीच देश छोड़ने को मजबूर है।