आँख से अँधा होने का बाद भी घंटो धुप में ये शक्श बनाते है खुद चिप्स, देख आप भी हो जाओगे भावुक


एक कामचोर और आलसी व्यक्ति के पास काम न करने के सत्रह बहाने होते हैं। वहीं जो व्यक्ति मेहनती होता है वह मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों में भी काम करना नहीं छोड़ता है। अब नासिक (Nashik) के इन दृष्टिहीन बुजुर्ग को ही देख लीजिए। ये अंकल अपनी आंखों की रोशनी खो चुके हैं। इन्हें कुछ भी दिखाई नहीं देता है।

लेकिन इसके बावजूद वे रोज अपनी दुकान खोलते हैं और पूरी सिद्दत से केले के चिप्स बनाते हैं। आंखों की रोशनी के साथ भी गरम तेल की कढ़ाई में चिप्स बनाना काफी खतरनाक हो सकता है, ऐसे में ये बुजुर्ग बिना आंखों की रोशनी के ये काम रोज करते हैं। दरअसल इस बुजुर्ग की शॉप नासिक (Nashik) में मखमलाबाद रोड पर सड़क किनारे है।

वे यहाँ काफी समय से केले के चिप्स (banana chips) का स्टॉल चला रहे हैं। ‘हट्टी’ की गर्मी और भाप में लगातार काम करने की वजह से इनकी आंखों की रोशनी चली गई है। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने अपना काम नहीं छोड़ा है। इस बुजुर्ग की कहानी को वीडियो के माध्यम से डिजिटल कंटेंट क्रिएटर संस्कार खेमानी ने साझा किया है।

इंस्टाग्राम पर इस वीडियो को अभी तक एक करोड़ से ज्यादा बार देखा जा चुका है।वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे आंखों की रोशनी चली जाने के बावजूद बुजुर्ग पूरी लगन के साथ केले की चिप्स बना रहा है। वह खुद केले के चिप्स को काटता है और उसे गरम तेल में तलता है। चिप्स को तलने के बाद वह उसे एक बड़े से कंटेनर में डाल देता है। इसके बाद उसका एक सहायक चिप्स में सभी मसाले मिलाकर उसे एक प्लास्टिक की थैली में भर देता है।

दृष्टिहिन बुजुर्ग की यह कड़ी मेहनत देख लोग काफी इंप्रेस हो रहे हैं। हर कोई उनकी तारीफ़ों के पूल बांध रहा है। किसी ने कहा कि ‘हम वीडियो में उनका खाना पकाने को लेकर समर्पण महसूस कर सकते हैं।’ वहीं एक कहता है ‘आप ने मेरा दिल जीत लिया। आपको ढेर सारा सम्मान।’ फिर एक कमेंट आता है ‘ये बुजुर्ग आंखों की रोशनी जाने के बाद भी इस उम्र में इतनी कड़ी मेहनत कर रहे हैं। हम युवाओं को इनसे कुछ सीखना चाहिए।’