पिता महेश भट्ट और सौतेली माँ सोनी राजदान के रिश्ते पर पूजा भट्ट ने दिया बड़ा ब्यान, कहा- मेरी माँ को आज भी…


बॉलीवुड इंडस्ट्री में भट्ट परिवार को कोई परिचय की जरूरत नही है , यह फैमिली एक ऐसा परिवार है जिसके बारे में कुछ ना कुछ सनसनीखेज खबर आए दिन सामने आती रहती है । हालांकि, इस फैमिली ने कई बार ये भी साबित किया है कि चाहे कुछ भी हो जाए, उनके बीच में प्यार भी बहुत है। फिल्ममेकर महेश भट्ट कई बार विवादों में घिरे नजर आ चुके हैं। लेकिन यह भी देखा जाता है कि हर खास मौके पर यह पूरी फैमिली हमेशा दूसरे का साथ देती है।

रणबीर कपूर और आलिया भट्ट की शादी

अभी हाल ही में पिछले महीने रणबीर कपूर और आलिया भट्ट शादी के बंधन में बंध चुके है।आलिया ने 14 अप्रैल को रणबीर कपूर संग 7 फेरे लिए। इस शादी में पूरा भट्ट परिवार नजर आया। इसमें आलिया के पिता महेश भट्ट , मां सोनी राजदान , सौतेले भाई राहुल भट्ट और सौतेली पहन पूजा भट्ट भी मौजूद थी।

पूजा भट्ट ने किया खुलासा

महेश भट्ट की बात करें तो उनका जीवन काफी विवादों से घिरा रहा है उदाहरण के लिए उनका अपनी बेटी पूजा भट्ट के साथ एक लीप लॉक फोटो भी बाद वायरल हुआ था। महेश भट्ट ने तो ये तक बोल दिया था कि यदि पूजा मेरी बेटी नहीं होती तो मैं उससे शादी कर लेता है। पूजा भट्ट ने एक बार खुलासा किया था कि अपने पिता महेश भट्ट की दूसरी फैमिली से उनका कैसा रिश्ता है? वो सौतेली मां सोनी राजदान और बहनों आलिया-शाहीन के साथ कैसा बॉन्ड शेयर करती हैं।

इंटरव्यू में किया था खुलासा

पूजा भट्ट ने इंडिया टुडे के साथ इंटरव्यू के दौरान उन्होंने बताया था कि एक बार ट्रिप के दौरान सोनी राजदान ने उनसे कहा था कि वो महेश भट्ट से शादी करके पछतावा महसूस कर रही हैं। ऐक्ट्रेस ने कहा था, ‘मैं एक ऐसे पिता के साथ पली-बढ़ी हूं, जिसने दूसरे से शादी की और उसकी दूसरी फैमिली भी है मुझे ऐसा नहीं लगता सोनी और मैं कुन्नूर गए थे।

मां-पिता के बीच अब अलग है रिश्ता

वो बाहर बैठी हुई थी और उसने कहा, ‘पूजा मैं तुम्हें कुछ बताना चाहती हूं कि मैं खुद को दोषी मानती हूं’ इस पर मैंने कहा, ‘सोनी तुम खुद को दोषी क्यों मानती हो? तुमने कभी कोई शादी नहीं तोड़ी। वो शादी लंबे समय पहले ही मर चुकी थी।” इस इंटरव्यू में पूजा ने ये भी बताया था कि उनकी मां और पिता के बीच अब बिल्कुल ही अलग रिश्ता है वो अमेजन से आलिया की फिल्में खरीदती हैं और उसे देखने के लिए बहुत ऐक्साइटेड रहती हैं। अब वो पहले से ज्यादा साथ हैं, जबकि जब वो साथ थे, तब बोलने के लिए शब्द नहीं होते थे।