शनैन ढाका बनी NDA परीक्षा पास करने वाली देश की पहली बेटी, पिता ने कहा – ‘बेटी पर है गर्व’


भारतीय सेना में महिलाओं के पहले NDA नेशनल डिफेंस अकादमी बैच में रोहतक के सुडाना गांव की बेटी शनन ढाका ने प्रथम रैंक हासिल किया है। शनन की इस उपलब्धि पर गांव में खुशी का माहौल है। शनन के दादा सूबेदार चंद्रभान ढाका व पिता नायक सूबेदार विजय कुमार ढाका ने भी भारतीय सेना में रहकर देश सेवा की है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पिछले साल भारत सरकार ने NDA में लड़कियों के प्रवेश की अनुमति दी थी। अब जब इसका रिजल्ट आया तो हरियाणा की शनन ढाका देश की पहली बेटी बनीं, जिन्होंने NDA की परीक्षा को पास किया।

रोहतक के सुंदाना गांव की हैं शनन

रोहतक के गांव सुंदाना की बेटी शनैन ढाका ने लड़कों की परीक्षा में 10वां और लड़कियों की परीक्षा में पूरे देश में पहला स्थान हासिल किया है। बेटी ने पहले ही प्रयास में NDA की परीक्षा पास कर अपना सपना पूरा कर लिया है। शनैन ढाका की मां गीता देवी गृहिणी हैं। बड़ी बहन जौनन मिलिट्री नर्सिंग ऑफिसर हैं और छोटी बहन आशी अभी पढ़ाई कर रही हैं।

40 दिन तक करी रोजाना 5 घंटे पढ़ाई

शनैन ढाका ने बताया कि देश की पहली महिला NDA परीक्षा की तैयारी के लिए सिर्फ 40 दिन का समय दिया गया था। मैं आत्मविश्वास से तैयारी करने लगी और एनडीए परीक्षा के पिछले सालों के प्रश्न पत्रों को UPSC की वेबसाइट से डाउनलोड करके हल करना शुरू किया। प्रश्न पत्र को हल करने के लिए परीक्षा में पांच घंटे का समय दिया जाता है, लेकिन मैंने इसे चार घंटे के भीतर हल करने की कोशिश की

UPSC की कर रही थी तैयारी

शनैन ने बताया कि वह UPSC की तैयारी कर रही थी। जैसे ही NDA में महिलाओं को प्रवेश की अनुमति मिली तो उन्होंने भी आवेदन कर दिया। इसके बाद करीब 40 दिन तैयारी करने का मौका मिला। 40 दिन बाद 14 नवंबर को परीक्षा हुई। परीक्षा पास करने के बाद पांच दिन के इंटरव्यू में भी उसका अच्छा प्रदर्शन रहा और NDA में चयन हुआ। दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज से बीए की पढ़ाई भी कर रही हैं।

NCERT से बनाए नोट्स

शनैन ने आगे बताया कि मैंने NDA की तैयारी के लिए 12वीं तक की NCERT की किताबों से नोट्स बनाए, उन्हें बार-बार दोहराए। इसका मुझे फायदा मिला। बता दें कि शनैन को जुलाई-अगस्त में ज्वाइनिंग लेटर मिलेगा। जिसके बाद NDA की पढ़ाई पूरी कर वो सेना की इंटेलिजेंस कोर में काम करने की चाहत रखती है। शनैन की बड़ी बहन सेना के नर्सिंग स्टाफ है। पिता और दादा सेना से रिटायर है, अब बेटी को मिली इस कामयाबी पर पूरे परिवार फूले नहीं समा रहा।