जब साइंटिस्ट के घर पर पड़ी छापेमारी तो नोटों से भरा पड़ा मिला पलंग, देख पुलिस के भी उड़ गए होश


मध्य प्रदेश के सतना में काले धन का भंडार पकड़ा गया है. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वैज्ञानिक के घर पर पड़ी आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) की छापेमारी में करोड़ों रुपये के काले धन का खुलासा हुआ है. अब तक की जांच में वैज्ञानिक को 7 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति की जानकारी मिली है. 1990 में सरकारी नौकरी में भर्ती हुए वैज्ञानिक को 35 लाख रुपये वेतन के रूप में मिला. जबकि उनके घर से करोड़ों रुपये बरामद किए गए हैं.

घर में छापे के दौरान मिला इतना नकद


बता दें कि रविवार को सुबह 4 बजे रीवा आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने सतना में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वैज्ञानिक सुनील कुमार मिश्रा के घर पर छापा मारा. छापेमारी के दौरान सुनील मिश्रा के पास अब तक 7 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति का खुलासा हो चुका है. उसके घर से 30 लाख रुपए नकद और 25 लाख रुपए के जेवरात बरामद किए गए.

25 लाख रुपए के जेवरात बरामद किए गए…

घर से बरामद पैसों की गट्ठर गिनने के लिए टीम के सदस्यों ने उसे बिस्तर पर लिटा दिया तो पूरा पलंग नोटों के बंडलों से भर गया. जांच के दौरान उसके पास से 8 लग्जरी वाहन, आलीशान घर, फार्म हाउस, कई बैंक खाते, नीतियां, जमीन की रजिस्ट्री और ठेके के कागजात बरामद किए गए.

मिश्रा की छोटी बहू है पटवारी 

 

वैज्ञानिक सुनील मिश्रा के दो बेटे हैं. दोनों शादीशुदा हैं. मिश्रा की छोटी बहू पटवारी है. बताया जा रहा है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड सतना के क्षेत्रीय कार्यालय में कनिष्ठ वैज्ञानिक के पद पर कार्यरत सुनील मिश्रा की संपत्ति में पिछले कुछ वर्षों में तेजी से वृद्धि हुई है, जिसके लिए शिकायतें भी प्राप्त हुई हैं, लेकिन कभी-कभी उनका उपयोग किया जाता है. है.