देसी छोरे पर आया गोरी मेम का दिल, सात समुन्दर पार आकर हिन्दू रीती-रिवाज़ से की शादी


कहते है ना जोड़ियां ऊपर से बन कर आती है और एक ना एक समय होने पर दोनों का मिलाप हो जाता है क्योकि कहा जाता है कि प्यार की कोई सीमा नहीं होती, न जाति और न ही संस्कार। ऐसे ही एक प्यार करने वाले जोड़े ने इसे साबित कर दिया, जो सात समंदर पार से एक-दूसरे से मिले और फिर शादी के बंधन में बंध गए।

सात समुंदर पार वाला प्यार लाया रंग

रविवार को रूस की एक लड़की ने मेरठ के मवाना के एक युवक से हिंदू रीति रिवाज से शादी कर ली। जिसमें शहर के गणमान्य लोगों ने शिरकत कर दंपत्ति को आशीर्वाद दिया। मवाना निवासी राजीव कंसल अधिवक्ता हैं, उनकी पत्नी प्रवक्ता हैं। उनके बेटे अनमोल कंसल ने IIT से इंजीनियरिंग की है।

फेसबुक की दोस्ती बड़ी शादी तक

फेसबुक के जरिए अनमोल की रूसी लड़की केन्सिया से दोस्ती हो गई, जो धीरे-धीरे प्यार में बदल गई। इस प्यार को मंजिल तक पहुंचाने के लिए केसोनिया ने पहल की और वह कई महीने पहले भारत आई और अनमोल के घर मवाना चली गई। उस समय अमर उजाला में इस संबंध में एक खबर भी छपी थी।

हिन्दू रीती रिवाज से हुई शादी

अंतत: जीत की जीत प्रेम ने की, जिसने देश की सीमाओं और रीति-रिवाजों की बेड़ियों से खुद को मुक्त किया और एक-दूसरे को हमेशा के लिए अपना लिया। अनमोल और केसोनिया की शादी पूरे हिंदू रीति-रिवाज से संपन्न हुई। दुल्हन बनी केसिया बेहद खुश नजर आ रही हैं। अब विदेश से दुल्हन को देखने के लिए ग्रामीणों का तांता लगा हुआ है, वहीं पड़ोस की लड़कियां भी विदेशी दुल्हनों के साथ सेल्फी ले रही हैं.