डिबेट के समय झल्लाईं प्रियंका, BJP प्रवक्ता को कहा बदतमीज तो मिला करारा जवाब, ‘जाओ दाऊद के मुंह लगो’।


दरअसल इन दिनों  मनी लॉन्ड्रिंग और अंडरवर्ल्ड से कारोबारी रिश्तों के आरोप में आज प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए गए एनसीपी नेता और महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार में कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक को लेकर चर्चा का बाजार गरम है। आज के समय में ये हर टीवी न्यूज़ चैनल पर इसकी चर्चा हो रही है।

जी हाँ हाल ही में सबसे वरिष्ठ टीवी चैनल ‘आजतक’ के प्रोग्राम ‘हल्लाबोल’ में भी यही मुद्दा गरमाया था, चर्चा के लिए महाराष्ट्र में सत्ता साझा करने वाली तमाम पार्टियों के अलावा मुख्य विपक्षी पार्टी यानी भाजपा के भी प्रवक्ता मौजूद थे। गरमागरम बहस के दौरान बीजेपी प्रवक्ता के सवाल पर शिवसेना की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी भड़क गई आइये देखिये पूरा मामला।

दरअसल बहस के दौरान प्रियंका चतुर्वेदी इतनी भड़क उठी की उनका आपा ही खो गया जिसके बाद उन्होंने  बीजेपी की ओर से शामिल प्रवक्ता प्रेम शुक्ला को ‘बदतमीज’ का टैग दे डाला। प्रेम शुक्ला हालांकि फिर भी नरम बने रहे, लेकिन ये साफ था कि शुक्ला के सवालों से प्रियंका बौखला सी गई थी। उनके इस बौखलाहट को वीडियो में साफ देखा जा सकता है।

दरअसल इस बहस में प्रियंका अप्पोसिशन पार्टी को घेरने का पूरा-पूरा काम कर रही थी। उन्होंने कहा कि- ‘2014 में 56’’ केन्द्र सरकार ने दाऊद को लाने की बात कही थी, लेकिन दाऊद अभी तक अपनी जगह पर क्यों है? अगर दाऊद को सरकार लाने में कामयाब होती है तो सबसे पहले उसे जूता मा*ने के लिए मैं खड़ी होऊंगी। बीजेपी गवर्नमेंट की यह कोशिश रही है कि वह महाराष्ट्र में मौजूदा सरकार को अस्थिर करे।

जिसके बाद वह आगे कहती है कि आप देखिए कि सुशांत सिंह राजपूत मामले में केन्द्र सरकार ने सीबीआई का प्रयोग किया, ड्र*! मामले में एनसीबी का और अब ईडी का। लेकिन मेरा सवाल है कि रिजल्ट क्या रहे। गुजरात में कई अरब के ड्रग्स पकड़े गए लेकिन क्या कार्रवाई हुई, पांच ग्राम ड्रग्स के लिए एनसीबी का सहारा लिया गया। संजय राउत ने कहा भी था कि केन्द्र सरकार ने यह दबाव डाला था कि ये सरकार तोड़ो और हमारे साथ सरकार बनाओ और नहीं करोगे तो हम सेंट्रल एजेंसियों का इस्तेमान करेंगे। और आज देखिए कि सिटिंग मंत्री को बिना नोटिस के गिरफ्तार कर लिया गया।’

जब तक प्रियंका अपना तर्क रख रही थी तब प्रेम शुक्ल शांत थे लेकिन जब अपनी बारी आयी तो प्रेम ने कहना शुरू किया कि 1993 बम कांड से लेकर 2014  तक दाऊद को कितनी बार लाने का प्रयास किया गया। दाऊद को पालने पोसने का काम तो आपलोगों ने किया है। जो शिवसेना एक समय दाऊद के खिलाफ थी, आज वो दाऊद की आरती गा रही है। प्रेम एक-एक सवाल का जवाब दे रहे थे और जब एनसीबी वाले मुद्दे पर प्रेम ने कहा कि एनसीबी इसलिए जांच करना नहीं छोड़ देगी क्योंकि ड्रग** में पकड़ाने वाला आदित्य ठाकुर का दोस्त है, तो प्रियंका गुस्से से भड़क गई और प्रेम शुक्ला को बदतमीज कह दिया और कहा कि मैं ऐसे लोगों के मुंह नहीं लगती जो बदतमीजी करते हैं।