यहां हिंदी सिनेमा मचा रहा धमाल, वही पाई- पाई को मोहताज़ हो रहा पकिस्तानी सिनेमा


हॉलीवुड फिल्म Doctor Strange in the Multiverse of Madness ने रिलीज के बाद से ही लोगों को अपना दीवाना बना लिया है। फिल्म देखने के लिए फैंस का उत्साह थमने का नाम नहीं ले रहा है. फिल्म को पाकिस्तान में भी रिलीज किया गया है और सबसे अच्छी बात यह है कि इसे अच्छा रिस्पॉन्स भी मिल रहा है।

पाकिस्तान धाराशायी की 5 फिल्में


ईद के मौके पर पाकिस्तान में 5 पाकिस्तानी फिल्में रिलीज हुईं, जिन्होंने शुरुआत में अच्छी कमाई की लेकिन अब डॉक्टर स्ट्रेंज के आने से वे सभी फिल्में सीमित स्क्रीन पर शिफ्ट हो गई हैं और इसके साथ डॉ. स्ट्रेंज को ज्यादा स्क्रीन स्पेस मिल रहा है। पाकिस्तान में ईद के मौके पर 1 पंजाबी और 4 उर्दू फिल्में रिलीज हुईं लेकिन हॉलीवुड की हिट रिलीज होते ही ये सभी ठप हो गईं।

 

एक्ट्रेस निदा यासिर का गुस्सा

इन फिल्मों की उपेक्षा पर प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तानी अभिनेत्री निदा यासिर ने लिखा, ‘हम सभी को अपनी इंडस्ट्री को बड़ा और बेहतर बनाने के लिए एक साथ खड़ा होना होगा। इसमें हर अभिनेता, निर्देशक, वितरक, निर्माता शामिल हैं। अगर हम विदेशी फिल्मों का सहारा लेते हैं और अपनी फिल्में नहीं देते हैं, तो हम अपनी कब्र खुद खोद रहे हैं। बहुत निराशा हुई कि हमारी फिल्मों को सिर्फ 4 दिन दिए गए। हम सब जोखिम में हैं। एक साथ खड़े होने का समय आ गया है।

‘डॉक्टर स्ट्रेंज’ का जादू

इस मामले को लेकर पाकिस्तान के फिल्म निर्माताओं ने चिंता जताई है और इसी वजह से उन्होंने इसके खिलाफ आवाज भी उठाई है. पाकिस्तानी मंत्रालय से निराश होकर, फिल्म निर्माताओं ने उस वित्तीय नुकसान के बारे में बात की है जिसका उन्हें सामना करना पड़ रहा है और इसके लिए उन्हें भुगतान करना होगा। फिल्म निर्माताओं ने स्थानीय उत्पादन पर विदेशी रिलीज के महत्व के खिलाफ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी बुलाया और उनका कहना है कि सरकार को इसका समाधान खोजना चाहिए।