बिहार के छात्र ने हासिल किया Amazon का 1.8 करोड़ का पैकेज , पहले Paytm ने भी दिया था छात्र को ऑफर


कोराना वायरस के संक्रमण से पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था ठप करके रख दिया है इसके बावजूद पूरी दुनिया में भारतीय छात्रों की गूंज सुनाई दे रही है एमेजॉन जर्मनी ने पटना एनआईटी में कंप्यूटर विज्ञान के अंतिम वर्ष के छात्र अभिषेक को 1.8 करोड़ रुपये के वार्षिक पैकेज की पेशकश की है अभिषेक को बर्लिन में एक सॉफ्टवेयर डेवलपर के रूप में नौकरी देने का वादा किया गया है यह अभिषेक के माता-पिता के साथ-साथ पटना एनआईटी के लिए भी बड़ी उपलब्धि है आपको बता दें कि इन दिनों पटना एनआईटी में कैंपस प्लेसमेंट का दौर चल रहा है इस सिलसिले में पटना एनआईटी में बड़ी संख्या में बहुराष्ट्रीय कंपनियां भी प्लेसमेंट के लिए आईं उनमें से एक अमेज़ॅन की जर्मनी शाखा ने आखिरकार अभिषेक को चुना और उसे नौकरी की पेशकश की

अभिषेक की मेहनत लाई रंग

जानकारी के अनुसार जमुई जिले के झाझा निवासी एक साधारण परिवार के अभिषेक ने अपनी मेहनत के दम पर सफलता का झंडा बुलंद किया है पटना एनआईटी में कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई कर रहे अभिषेक को अमेजन जर्मनी ने 1 करोड़ 8 लाख रुपये के पैकेज की पेशकश की है एनआईटी पटना में इस फाइनल ईयर के छात्र की सफलता से उनका परिवार काफी खुश है बताया जा रहा है कि ऐसा पहली बार हुआ है जब अमेजन ने पटना एनआईटी के किसी छात्र को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रखा है अभिषेक ने 14 दिसंबर 2021 को अमेजन में प्लेसमेंट के लिए कोडिंग टेस्ट दिया इसके बाद 13 अप्रैल को 3 राउंड में 1 घंटे का इंटरव्यू हुआ इसके बाद 21 अप्रैल को अमेजन जर्मनी से फाइनल सेलेक्शन कंफर्म हुआ

अभिषेक बचपन से ही पढ़ाई में था होशियार

अभिषेक के पिता इंद्रदेव यादव, जिन्हें अमेज़ॅन में एक अंतरराष्ट्रीय नौकरी की पेशकश की गई थी, जमुई सिविल कोर्ट में वकील हैं, जबकि उनकी मां मंजू देवी एक गृहिणी हैं अभिषेक 2 भाइयों में छोटा है उसका बड़ा भाई ग्रेजुएशन के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा है अभिषेक का परिवार झाझा शहर के गांधी चौक के पास किराए के मकान में रहता है अभिषेक बचपन से ही पढ़ाई में काफी होशियार था उन्होंने पहली से दसवीं तक झाझा शहर के स्कूल में पढ़ाई की और प्लस टू पटना से किया साल 2018 में अभिषेक को पटना एनआईटी में भर्ती कराया गया था कंप्यूटर साइंस स्ट्रीम में नामांकित अभिषेक को कोडिंग पसंद है