बस में बैठे हुए बिगड़ी 5 साल के बच्चे की तबियत तो कंडक्टर और ड्राइवर ने बस खाली कर पहुंचाया उसे अस्पताल


आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी में कोई किसी के लिए नहीं रुकता है सबको बस अपने काम से मतलब है अगर हम बात करे भारत के शहर मुंबई की तो सब इस शहर को कहते है की ये वही city है जहां कोई सोता नहीं है | मुंबई से ही एक ऐसी खबर सामने आई है जहां एक बस ड्राइवर और कंडक्टर ने एक बच्चे की जान बचाने के लिए पूरी बस को खाली करवा दिया और उसे तुरंत हॉस्पिटल पहुंचाया |

बच्चे की हो गई थी तबियत ख़राब 

मुंबई की एक बस में पांच साल का बच्चा अपनी माँ के साथ सफर कर रहा था अचानक उसे दौरा पड़ गया जिसके बाद उसकी तबियत काफी ख़राब हो गई , जब कंडक्टर और बस ड्राइवर को इस बात का पता चला तो उन्होंने तुरंत बस को खाली करवाया और बस को अस्पताल की तरफ मोड़ लिया और उसे इलाज के लिए भर्ती करवाया , इस पूरी घटना को फेसबुक पर तनवी गावणकर नाम की एक लड़की ने शेयर किया है

कंडक्टर ने बस करवाई खाली

तनवी ने अपनी पोस्ट में लिखा की आम तौर पर में अपने पर्सनल एक्सपीरियंस कभी शेयर नहीं करती पर इस बार ये एक्सपीरियंस शेयर करने से खुद को रोक नहीं पाई , उन्होंने आगे लिखा की ये घटना मुंबई के शिवाजी पार्क के ठाकुर अस्पताल की है जहां दोपहर के समय एक टिकट कलेक्टर और बस ड्राइवर एक बच्चे को हाथ में लेकर अस्पताल में भाग रहे थे और उस बच्चे की माँ भी वही थी तब अस्पताल का स्टाफ तुरंत बच्चे का उपचार शुरू किया |

कंडक्टर और ड्राइवर को किया गया सम्मानित 

बस कंडक्टर और टिकट कलेक्टर ने सुबह से बस में जो पैसे कमाए थे उन्होंने वो सब बच्चे के उपचार के लिए अस्पताल में दे दिए ,अस्पताल ने इलाज से पहले उनसे पैसे नहीं मांगे थे पर उन्होंने खुद ही इलाज के लिए पहले पैसे जमा करवा दिए थे ताकि इलाज़ में किसी तरह की देरी ना आये | बता दे की बस कंपनी के जनरल मैनेजर ने बस के कंडक्टर और ड्राइवर को उनकी इस अच्छी के लिए सम्मानित भी किया था |