गरीबी की फ़र्ज़ी खबरों से परेशान ‘भीम’ का फूटा गुस्सा ‘न मुझे पैसों की जरूरत, न मैंने मदद मांगी’


जब टीवी का इतना प्रचलन नहीं था तब एक ही चैनल दुनियाभर में मशहूर था और वह था दूरदर्शन। बता दे ये दुनिया का सबसे मशहूर चैनल है और इसपर 3 दशक पहले एक शो आता था  ‘महाभारत’ जो टीवी का सबसे चर्चित शो है तब भी था और आज भी है। बता दे पिछले साल जब कोरोना काल में समय में इसे दुबारा से प्रसारित किया गया था,लॉकडाउन के दौरान शो को काफी प्यार मिला. शो में जिन कलाकारों ने अपने-अपने किरदारों को निभाया था, उमसे से एक थे ‘गदाधारी भीम’. भीम का किरदार प्रवीण कुमार सोबती ने निभाया था. उस समय उन्हें शो में किरदार निभाने के खूब पैसा मिलते थे लेकिन आज उनकी हालत खस्ता होगयी और वह पाई-पाई के मोहताज हो गए है।

बता दे इनकी हाइट काफी लम्बी थी वह 6 फुट से भी ज्यादा लंबे थे भीमकाय प्रवीण कुमार सोबती को अपनी हाइट के साथ-साथ अच्छी एक्टिंग के लिए जाना जाता है आज उनकी उम्र 74 साल हो चुकी है और वह आर्थिक तंगी से गुजर रहे है। आज उनके लिए जीवन को काटना बेहद मुश्किल हो गया है,इसलिए उन्होंने पंजाब सरकार से जीवन यापन के लिए पेंशन की गुहार लगाई है.

 

दरअसल हाल ही में एक रिपोर्ट के मुताबिक एक्टर ने अपनी शिकायत में कहा कि पंजाब में बनने वाली सभी सरकारों से मुझे शिकायत है, जितने भी खिलाड़ी एशियन गेम्स खेलते हैं या मेडल जीतते हैं, उन्हें पेंशन दी जाती है. लेकिन इस अधिकार से मुझे वंचित रखा गया.दो बार ओलंपिक, फिर एशियन, कॉमनवेल्थ में कई गोल्ड, सिल्वर मेडल हासिल कर चुके प्रवीण 1967 में खेल के सर्वोच्च पुरुस्कार ‘अर्जुन अवॉर्ड’ से नवाजे गए. खेल से फिल्मी ग्लैमर का कामयाब सफर तय कर चुके ‘भीम’ अब आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. प्रवीण कुमार सोबती पंजाब के अमृतसर के पास एक सरहली नामक गांव के रहने वाले हैं.

एक इंटरव्यू के दौरान टीवी के भीम ने कहा कि कोरोना ने रिश्तों की सच्चाई को बयां किया है. सब रिश्ते खोखले हैं. मुश्किल वक्त में कोई सहारा तो दूर अपने भी भाग जाते हैं. प्रवीण ने बताया कि अब उनकी तबीयत ठीक नहीं रहती है, खाने में भी कई तरह के परहेज हैं. उनकी पत्नी उनकी देखभाल करती है. एक जमाने में अंतरराष्ट्रीय एथलीट और बीआर चोपड़ा के मशहूर सीरियल ‘महाभारत’ में भीम (Bheem) का किरदार निभाने वाले 76 वर्षीय प्रवीण कुमार सोबती (Praveen Kumar Sobti) ने कहा है कि न उन्हें पैसों की जरूरत है और न ही उन्हें किसी की मदद चाहिए। प्रवीण कुमार सोबती उन खबरों से बेहद आहत हैं, जिनमें उनके बारे में निराधार और भ्रामक बातें फैलाई गई हैं। प्रवीण कुमार ने कहा कि इसकी वजह से चारों तरफ से उनके पास लोगों के कॉल्स आ रहे हैं। लेकिन इतना टीवी की दुनिया में काम करने के बावजूद आज उन्हें कोई पूछने नहीं आता जिसकी उन्हें नाराजगी है अब उन्हें पंजाब सरकार के आगे हाथ फैलाने पड़े है।