दो सिर तीन हाथ के साथ अस्पताल में अनोखे बच्चे ने लिया जन्म, लोग मान रहे भगवान का अवतार


भारत देश जितना बड़ा है उतने बड़े ही यहाँ मामले देखने को मिलते है, कई बार मामले इतने अजीबोगरीब होते है कि उनपर विश्वास कर पाना बेहद मुश्किल होजाता है। दरअसल हाल ही में मध्यप्रदेश के रतलाम ज़िले में एक महिला ने अनोखे बच्चे को जन्म दिया है. बच्चे के दो सिर और तीन हाथ हैं. बच्चे को फिलहाल इंदौर रेफर किया गया है. मामला रतलाम के एमसीएच का है, जहां जावरा की रहने वाली महिला शाहीन ने इस अनोखे बच्चे को जन्म दिया है. इस बच्चे के दो सिर और तीन हाथ हैं.

जानकारी के मुताबिक, शाहीन की डिलीवरी रविवार रात को हुई. सोहेल का कहना है कि डॉक्टरों ने जब सोनोग्राफी की थी तो कहा था कि जुड़वा बच्चे हैं. लेकिन ये बिल्कुल नहीं सोचा था कि बच्चा इस तरह का होगा. जब माता-पिता को बच्चा दिखाया गया तो उन्होंने देखा कि उसके दो सिर हैं. ये सिर एक ही धड़ से जुड़े हुए हैं. तीन हाथ हैं. दो हाथ पूरी तरह सामान्य, जबकि एक हाथ सिर के पास से निकला हुआ है. बच्चे के पिता का कहना है कि आगे क्या होगा, इसका तो पता नहीं, लेकिन ऊपर वाले से दुआ कर रहे हैं कि बच्चा जिंदा बचे.

रतलाम जिला अस्पताल के इंचार्ज डॉ. नावेद कुरैशी का कहना है कि यह नवजात दूसरे बच्चों से अलग है. इसके दो सिर और तीन हाथ हैं. इस अनोखे बच्चे को बेहतर देखभाल के लिए इंदौर रेफर कर दिया गया . मेडिकल साइन्स में करोड़ों बच्चों में ऐसा मामला देखने को मिलता है. इस केस पर हम विशेष तौर पर नजर रख रहे हैं. हम सभी यही चाहते हैं कि बच्चा सुरक्षित रहे.अब देखना ये है की आगे बड़े डॉक्टर्स इस पर क्या सलाह देते है।

फिलहाल बच्चे को इंदौर के एमवाय अस्पताल के आईसीयू में भर्ती किया गया है जबकि मां को रतलाम के अस्पताल में भर्ती रखा गया है. बच्चा डॉक्टरों की निगरानी में है। डॉक्टर नावेद कुरैशी ने कहा कि इस तरह के केस में कई बच्चे या तो गर्भ में खत्म हो जाते हैं और अगर बच्चे का जन्म हो भी जाता है तो 48 घंटे तक ही जिंदा रह पाते. हालांकि ऐसे मामलों में सर्जरी का विकल्प भी रहता है लेकिन इसके बाद भी 60 से 70 फीसदी बच्चे नहीं बच पाते.