139 करोड़ के चारे घोटाले के पांचवें केस में लालू को लगा बड़ा झटका, 5 साल की सजा, 60 लाख रुपए का लगा जुर्माना


दरअसल हाल ही में बिहार के सबसे चर्चित चेहरा व् पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले में रांची में सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को 5 साल की सजा सुनाई. चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव को पांचवें मामले की सजा मिली है. अब तक कुल मिला कर लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के 5 मामलों में 32.5 साल की सजा मिल चुकी है, इसके अलावा कोर्ट उन पर अलग-अलग मामलों को मिलाकर कुल 1.55 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगा चुकी है. जिसमे लालू यादव को 60 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

लालू प्रसाद यादव को सोमवार को जिस पांचवें मामले में सजा सुनाई गई, वो मामला रांची के डोरंडा ट्रेजरी से जुड़ा हुआ है.डोरंडा कोषागार का मामला चारा घोटाले का सबसे बड़ा मामला था. चारा घोटाले में लालू यादव को मुख्य साजिशकर्ता बताया गया था. सीबीआई की तरफ से कहा गया था कि लालू यादव जब वित्त मंत्री, मुख्यमंत्री थे तो उनकी नाक के नीचे यह सब कुछ हुआ, यानी यह सब उनकी जानकारी में था.और लालू यादव को सजा मिलने के मामले में इस केस का पांचवां नंबर है. इस मामले में लालू प्रसाद यादव को 5 साल जेल की सजा मिली है और उनपर 60 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है.लालू प्रसाद यादव पर चारा घोटाले में कुल 6 केस दर्ज हुए थे.

इसमें सबसे पहले उन्हें चाई बासा कोषागार मामले में सजा सुनाई गई थी. ये मामला चारा घोटाले में गबन का दूसरा सबसे बड़ा मामला था. सितंबर 2013 में कोर्ट ने लालू यादव को 5 साल कैद की सजा सुनाई और 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया. यही वो मामला था, जिसके बाद लालू प्रसाद यादव हर संवैधानिक पद से वंचित हो गए. इस मामले में अभी लालू प्रसाद यादव जमानत पर चल रहे हैं.

दरअसल लालू प्रसाद यादव देवघर कोषागार से 84.53 लाख रुपये के घोटाले के मामले में दोषी पाए गए थे. चारा घोटाले से जुड़ा ये दूसरा मामला था, जिसमें लालू प्रसाद यादव को सजा हुई. दिसंबर 2017 में लालू को इस मामले में साढ़े तीन साल की सजा मिली थी, इसके साथ ही उनपर 5 लाख का जुर्माना भी लगाया गया था.चाई बासा कोषागार से जुड़े दूसरे मामले में 33 करोड़ 13 लाख रुपये के घोटाले की थी. इस मामले में जनवरी 2018 में लालू यादव को 5 साल कैद की सजा सुनाई गई थी. 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था.