ट्रैन में सफर करने से पहले जान ने ले ये नए नियम, वरना देना पड़ सकता है भारी जुर्माना


ट्रैन में यात्रा करना बेहद आरामदायक माना गया है रोजाना भारतीय रेलवे से कम से कम लाखो लोग सफर करते है। और ट्रैन में यात्रा करना बेहद आसान भी है यहाँ हर लेवल का व्यक्ति सफर करता है। अगर आप भी जल्द ही ट्रैन में सफर करने जा रहे है तो ये खबर आपके लिए है जैसे की आप जानते है होली का त्यौहार आने वाला है ऐसे में ज्यादातर लोग छुट्टियों पर घर जाने की तैयारी में लगें हैं। दरअसल रेलवे यात्रियों की सहूलियतों को देखते हुए अक्सर नियम बनाता रहता है। इसके पहले रेलवे ने कोरोना को लेकर नयी गाइडलाइन जारी की थी। लेकिन अब रेलवे ने यात्रियों की नींद में कोई ख़लल न पड़े और वो यात्रा के दौरान चैन से नींद ले सकें इसके लिए नियम बनाया है।

ट्रैन के नियम के अनुसार अब आपकी सीट, कंपार्टमेंट या कोच में कोई भी पैसेंजर तेज आवाज में मोबाइल पर बात नहीं कर सकता और न ही वह ऊंची आवाज में गाने सुन सकता है। दरअसल यात्रियों द्वारा की गयी इस तरह की कई शिकायतों के बाद रेलवे ने यह नियम बनाया। अब इससे किसी यात्री की नींद में कोई ख़लल नहीं पड़ेगा। इतना ही नहीं अगर को इन नियमों की अवहेलना करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई का भी प्रावधान है। यानि अब आप ट्रेन में चैन की नींद सो सकते हैं।

रेलवे मंत्रालय ने रेलवे के सभी जोन्स को यह आदेश जारी कर दिया गया है कि इन नियमों को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाए। आपको बता दें कि इन नये नियमों के मुताबिक अगर कोई यात्री शिकायत करता है तो उसका समाधान करने की जिम्मेदारी ट्रेन में मौजूद स्टाफ की होगी।ट्रैन में सफर करना अब और भी ज्यादा किफायती हो गया है। हमारे देश में अधिकतर लोग ट्रैन से ही सफर करना सही समझते है।

मोबाइल पर गाने सुनने के अलावा कई शिकायतें ऐसी भी रेलवे को मिली थीं कि लोग ग्रुप में बैठकर ऊंची आवाज में बातें करते हैं और हंसी मजाक करते हैं। वहीं इसके अलावा लाइट जलाने और बुझाने को लेकर भी कई बार विवाद हुआ है। इसी के चलते रेल मंत्रालय ने ये नये नियम बनाए हैं।जिसे पालन करना हर उस यात्री की जिम्मेदारी है तो ट्रैन में सफर करता है।