भारत में फिर से 2 साल बाद शुरू हो रही है रेगुलर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, लेकिन एक बार जरूर जान ले ये नियम।


कोरोना काल में सभी उड़ाने बंद कर दी गयी थी जिसकी वजह एविएशन इंडस्ट्री का समय बेहद बुरा चल रहा था। लेकिन अब दो साल बाद इस इंडस्ट्री का सब कुछ रुक सा गया था। सरकार ने अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाएं 27 मार्च से फिर शुरू करने का फैसला किया है। कोविड-19 महामारी की वजह से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें करीब दो साल से बंद हैं। नागर विमानन मंत्रालय के अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

दरअसल हाल ही में सरकार के इस फैसले पर सिविल एविशन मिनिस्टर को धन्यवाद देते हुए एसटीआईसी ट्रैवल ग्रुप और कन्फेडरेशन ऑफ टूरिज्म प्रोफेशनल्स के अध्यक्ष,सुभाष गोयल ने इंडिया टीवी को बताया कि यह सरकार का बहुत अच्छा फैसला है। कोरोना के बाद से छोटे टूर ऑपरेटर सबसे ज्यादा परेशान थे। इससे छोटे डेस्टिनेशंस पर विमानों की आवाजाही फिर शुरू होगी। साथ ही इस फैसले से देश की इकोनोमी को बड़ा बूस्ट मिलेगा।

बीते दो साल में कोरोना और लॉकडाउन के चलते इस इंडस्ट्री में काम करने वाले 25 लाख लोगों की नौकरी खत्म हो चुकी है। अंतरराष्ट्रीय उड़ान नहीं शुरू करने से 10 लाख और लोगों की नौकरी पर खतरा मडरा रहा है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अनुसार,भारतीय एयरलाइंस और हवाई अड्डों को वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान कोविड-19 महामारी के कारण करीब 20 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। वहीं, हवाई अड्डों का संचालन करने वाली कंपनियों को भी पांच हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान उठाना पड़ा।

कोरोना का असर खत्म होता देख दुनिया के कई देशों ने विदेशी यात्रियों के लिए खोल दिए हैं। इनमें अमेरिका, अस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फिलीपींस, बाली, मलेशिया जैसे देश शामिल हैं। ऐसे में अब भारत में विदेशी यात्रियों के लिए खोलने की मांग हो रही है। हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि सबसे पहले अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू की जाए। एसटीआईसी ट्रैवल ग्रुप और कन्फेडरेशन ऑफ टुरिज्म प्रफेशनल्स के अध्यक्ष,सुभाष गोयल ने इंडिया टीवी को बताया कि सरकार के कुल टैक्स कलेक्शन में ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी का योगदान करीब 10% है। 2019 की बात करें तो ट्रैवल और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री ने 30 बिलियन डॉलर की कमाई सिर्फ विदेशी यात्रियों से की थी।