बिहारी छोरे को दिल दे बैठी विदेशी लड़की, विदेश छोड़ आई भारत शादी रचाने…


प्यार एक बेहद प्यारा बंधन है यह एक रिश्ते को डोर से बांध देता है जिसे संभाल कर रखना हर व्यक्ति का काम है। प्यार में डूबा इंसान कुछ भी कर गुजरने को होता है उसके लिए फिर बंदिशे नहीं होती। एक ऐसा ही मामला सामने आया जहाँ बिहार के दूल्हे से शादी रचाने के लिए दुल्हन को जर्मन से सात समुन्द्र पार भारत आना पड़ा। दरअसल मामला ये है कि जर्मन महिला से शादी रचाने वाले सत्येंद्र ने बताया कि वह कैंसर पर शोध करने के लिए स्वीडन गए थे. उन्होंने कहा, ”हम वहां स्किन कैंसर पर शोध कर रहे थे.

शादी ऐसी कि पूरे गांव में इसकी चर्चा हो रही है जहाँ एक जर्मनी की रिसर्च स्कॉलर लारिसा बेल्ज ने अपने बिहारी प्रेमी सत्येंद्र कुमार के साथ हिंदू विधि-विधान के साथ शादी रचाई. सत्येंद्र कुमार नरहट प्रखंड के बेरोटा गांव के रहने वाले हैं. वहीं, लारिसा जर्मनी की रहने वाली हैं. दोनों स्वीडन में साथ-साथ रिसर्च कर रहे थे.जर्मनी में पली-बढ़ी लारिसा को ना तो हिंदी आती है और ना ही हिंदू धर्म के रीति-रिवाजों का पता है. फिर भी अपने प्यार की खातिर शादी के दौरान उन्होंने वह सारी रस्में बाखूबी निभाईं. हल्दी का उबटन लगाया, पानी ग्रहण से लेकर वर पूजन तक सब रस्में हुई. इसके बाद सिंदूर भी लगाया गया.

बता दें, प्यार में डूबी लारिसा अपनी शादी के लिए स्पेशल वीजा लेकर इंडिया आई हैं. उनके माता-पिता को वीजा नहीं मिल पाया, जिसके चलते वे शादी में शरीक नहीं हो पाए. जबकि सत्येंद्र की पूरी फैमिली और गांव वाले इस शादी का गवाह बने. राजगीर स्थित एक होटल में शादी की सारी रस्में अदा की गईं.  वह शुरू से ही भारतीय रीती-रिवाज़ो से शादी करना चाहती थी भारतीय संस्कृति से उन्हें शुरू से लगाव थे जिसके लिए इतनी दूर से सिर्फ भारत आयी और यहाँ सात फेरे लिए।

लारिसा ने बताया कि वे दोनों 2019 से एक दूसरे को जानते हैं. रिलेशनशिप में आने के बाद जब दोनों ने शादी करने का निर्णय लिया तो उन्होंने इसके लिए भारत को चुना. दोनों चाहते थे कि उनकी शादी भारत में हिंदू रीति-रिवाज से हो. उन्होंने बताया कि वो यहां की लाइफ एन्जॉय करने आई हैं. उन्हें भारतीय संस्कृति बहुत अच्छी लगती है और यहां के लोग भी उन्हें बेहद पसंद हैं. उन्होंने कहा, ”जर्मनी और भारत का कल्चर बिल्कुल अलग है. मुझे हिंदी भाषा समझ नहीं आती इसलिए मेरे पति उसे ट्रांसलेट करके मुझे समझाते हैं.”

वहीं, जर्मन महिला से शादी रचाने वाले सत्येंद्र ने बताया कि वह कैंसर पर शोध करने के लिए स्वीडन गए थे. उन्होंने कहा, ”हम वहां स्किन कैंसर पर शोध कर रहे थे. जबकि लारिसा प्रोस्टेट कैंसर पर रिसर्च कर रही थी. इसी दौरान 2019 में हम करीब आए. हमारे बीच बातें शुरू हुईं और फिर प्यार हो गया. प्यार परवान चढ़ा तो हमने शादी करने का मन बनाया. बीच में कोरोना काल के चलते थोड़ी देर हुई. जब हालात सामान्य हुए तो हमने शादी कर ली.”और अब हम एक होकर बेहद खुश है।