TV के ‘युधिष्ठिर’ और ‘भीष्म पितामह’ की हुई तीखी बहस, कहा – ‘महाभारत से पहले पूरी तरह फ्लॉप एक्टर थे मुकेश खन्ना’ – वीडियो


कपिल शर्मा शो को लेकर कमेंट करने के बाद से मुकेश खन्ना और गजेंद्र चौहान के बीच बयानबाजी जारी है। हिन्दुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में गजेंद्र ने मुकेश को लेकर कहा, ‘अगर आप उनका वीडियो देखेंगे तो वह खुद कह रहे हैं कि उन्हें बुलाया नहीं गया था और अगर उन्हें बुलाया जाएगा तो वह शो में नहीं जाएंगे।

यह तो ऐसा है कि मान ना मान मैं तेरा मेहमान। अगर उन्हें बुलाया ही नहीं जाएगा तो वह जाएंगे कैसे?’ गजेंद्र ने कहा, ‘दूसरी बात, मुझे लगता है कि वह खुद को माहाभारत के अथॉरिटी समझने लगे हैं। वह सभी को ज्ञान देते रहते हैं। वह पॉप्युलर लोगों को लेकर कमेंट करते हैं ताकि वह लाइमलाइट में आ सकें। पहले उन्होंने एकता कपूर और उनके शो महाभारत को लेकर कमेंट किया और उसकी बुराई की। सभी को अपने तरीके से महाभारत बनाने का हक है।’

एकता के बाद उन्होंने फिर सोनाक्षी सिन्हा को लेकर कमेंट किया और अब कपिल शर्मा। मुझे लगता है वह यह सब करके लाइमलाइट में आना चाहते हैं। गजेंद्र ने आगे कहा, मुकेश खुद को महाभारत के अथॉरिटी समझने लगे हैं जैसे कि उन्होंने इस पर पीएचडी की हुई है। उन्होंने मेरी तरह शो में सिर्फ एक किरदार निभाया था। उन्हें कोई हक नहीं है मेरे किरदार और करियर के बारे में बोलने का।

गजेंद्र कहते हैं, ‘मैं यह कहना चाहूंगा कि फिल्में कभी वल्गर नहीं होती। फिल्में या तो अच्छी होती हैं या तो बुरी, हिट या फ्लॉप। मुकेश भी महाभारत करने से पहले फ्लॉप एक्टर थे। उनकी सारी फिल्में भी नहीं चल रही थीं जिस वजह से उन्होंने टीवी में काम करना शुरू किया। उन्हें पहले द्रोणाचार्य के लिए कास्ट किया था। वहीं भीष्म पितामह का किरदार पहले विजेंद्र घाटगे निभाने वाले थे, लेकिन वह अपने एक प्रोजेक्ट में बिजी थे इसलिए उन्होंने इस किरदार को करने से मना कर दिया था।’

गजेंद्र ने आगे कहा, ‘उन्होंने वीडियो में जो कहा मैं उसकी निंदा करता हूं। उन्हें पहले खुद को देखना चाहिए। जो लोग कांच के घर में रहते हैं उन्होंने दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकना चाहिए। प्लीज अपना करियर और फिल्में देखें। महाभारत से पहले आप पर फ्लॉप एक्टर का टैग लगा दिया गया था। महाभारत ने आपका करियर बचाया है। मैं तो न्यूकमर था। शो से पहले मैंने सिर्फ 2 फिल्में की थी।’

This Article First Published On LIVEHINDUSTAN