मशहूर पहलवान दारा सिंह ने फेंक दिया था 200 किलो के एक पहलवान को उठाकर , हनुमान बन दुनिया में हुए थे मशहूर।


19 जनवरी 1928 को पंजाब के अमृतसर में दारा सिंह को कौन नहीं जनता भले ही आज उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया हो लेकिन आज भी उनकी फेन्स फॉलोविंग बरकार है। लोग उन्हें आज भी अपने दिलो में बसाये बैठे है। जब उनके निधन की खबर आयी थी तो उनके फेन्स को तगड़ा झटका लगा था। बता दे दारा सिंह रंधावा की हाइट और वेट अच्छी थी तथा वे कुश्ती के शौकीन थे। उन्होंने अपने सारे शौक पूरे किए। कुश्ती के साथ-साथ उन्होंने कई फिल्म में भी काम किए हैं।आज हम उनसे जुडी कुछ बातें आपको बताने जा रहे है आइये जानिए।

जैसे की आप जानते है शुरू से एक्टिंग व् खुश्ती के शौक़ीन दारा सिंह सर्वप्रथम वे केवल अखाड़े में कुश्ती किया करते थे और मेलो तथा अन्य समारोह में कुश्ती प्रतियोगिताओं में भाग लिया करते थे। सिंगापुर के मलेशियाई चैंपियन में 1947 में तरलोक सिंह को कुश्ती में उन्होंने पछाड़ दिया इसके बाद वह भारत के एक प्रसिद्ध पहलवान बन गए।हर जगह उनकी खुश्ती के चर्चे होने लगे थे उनकी तगड़ी फेन्स फॉलोविंग देख सब हैरान थे।

खुश्ती खेलने के साथ-साथ व् अपनी हेल्थ पर भी काफी ध्यान देते थे उन्हें हेल्थ मैन्टन करना का भी शौक था उन्होंने 55 साल की उम्र तक दिलो जान से पहलवानी की। वे केवल भारत के ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के एक बेहद प्रसिद्ध कलाकार एवं पहलवान कहलाते हैं। 1959 में उन्होंने पूर्व विश्व चैंपियन जॉर्ज गार्डियानका को हराकर कॉमनवेल्थ के विश्व के चैंपियनशिप में जीत हासिल की।जिसके बाद से उनके नाम की चर्चे पूरे विश्व में होने लगी।

जानकारी के मुताबिक उन्होंने 1968 में भी एक कुश्ती में विजेता हासिल की। उन्होंने अपने जीवन में कुल 500 मुकाबले लड़े और एक मैच में भी हार नहीं हासिल की।ऑस्ट्रेलिया के मशहूर पहलवान किंग कोंग के साथ भी दारा सिंह का मुकाबला हुआ है। इसे देखने के लिए काफी दर्शकों की भीड़ हुई थी। इस कुश्ती में भी दारा सिंह ने जीत हासिल की‌। 200 किलो के किंग कोंग को 30 साल के दारा ने सिर पर उठा कर उसे जमीन में पटक दिया। यह दाव देखकर सभी दर्शकों की आंखें फट गई।लोग हैरान-परेशान थे की ऐसा कैसे हो गया।

 

गौरतलब है की उनकी इसी फिटनेस के कारण कई अभिनेत्रियां उनके साथ काम करने से डरती थी लेकिन इसके बावजूद अभिनेत्री मुमताज ने इनके साथ 16 फिल्मों में काम किया था।रामानंद सागर द्वारा निर्मित धारावाहिक रामायण से इन्हें घर घर मे हनुमान जी कह कर पुकारा जाने लगा था। हनुमान जी के तौर पर मशहूर हुए दारा सिंह जी 12 जुलाई साल 2012 को 84 वर्ष की आयु में दुनिया को अलविदा कह गए।जिसके बाद आज भी वह अपने फेन्स के दिल में है।