सेना में भर्ती होने का सपना पूरा नहीं हुआ तो खोला ढाबा, आर्मी जवानों को फ्री मिलता है खाना


आपको आये दिन सेना के जवानो के द्वारा किये हुए कामो की सरहरणा सोशल मीडिया पर सुनने को मिल जाती है ऐसे ही रायसेन जिले के बारी कस्बे में इन दिनों हाईवे पर बना एक ढाबा सेना के वाहनों का स्टे सेंटर बना हुआ है। इस ढाबे पर अक्सर सेना के वाहन और ट्रक खड़े हुए नजर आते हैं। ये ढाबा हाईवे पर बना हुआ है, साथ ही आपको बता दें की इस ढाबे में सेना के जवानों के लिए खाना भी बिलकुल फ्री है.

जवानों के लिए खाना भी बिलकुल फ्री है.

तो चलिए आपको बताते है इस ढाबे को खोलने की दिलचस्प कहानी आखिर है क्या । इस ढाबे को खोलने वाले इंसान का सपना था कि वह भी सेना में जाये और देश की सेवा करें। पर सेना में भर्ती होने का मौका नहीं मिलने पर इस युवक ने अपने पिता के नाम से ये ढाबा खोल दिया.

ढाबे को खोलने की दिलचस्प कहानी आखिर है क्या?

इसके साथ इस युवक ने यहां आपने वाले जवानो जवानों को मुफ्त भोजन देने का फैसला भी लिया । हाईवे से गुजरने वाले सेना के साधन इस ढाबे पर आकर जरूर रुकते हैं। फौज में नहीं गया युवक तो ढाबा खोलकर जवानों को फ्री में खिलाना शुरू किया खाना बारी कस्बे के रहने वाले अरविंद चौहान ने बताया कि उनका बचपन से ही देश की रक्षा करने की इच्छा थी इसलिए वो सेना में जाना चाहते थे.

देश सेवा का ऐसा जज्बा…

कई बार कोशिश करने के बाद भी जब उनका सेना में भर्ती नहीं हुआ तब भी उनके मन में देशभक्ति की भावना बनी रही। अपने पिता की सेवानिवृत्ति के बाद, उन्होंने एक ढाबा खोलने का फैसला लिया। वही आपको बता दें की मात्र चार महीने पहले ही शुरू हुआ था ये ढाबा, और इस ढाबे पर जवानों की भीड़ रहती हैं। पिता और बेटे की इस देशभक्ति को देख सैनिक उन्हें सलामी देने के लिए जाते हैं।