चार महीने बाद मिली Delhi Metro को हरी झंडी, केंद्र सरकार ने दिए कुछ शर्तों के साथ खुलने के संकेत


केंद्र सरकार जल्द ही चार महीनों से बंद पड़ी Delhi Metro का परिचालन फिर से शुरू कर सकती है. केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने संकेत दिया है कि 15 अगस्त के बाद मेट्रो को फिर से शुरू किया जा सकता है.

इसके लिए जल्द ही एक Standard Operating Procedure लाया जाएगा, जिसमें केवल 50 फीसदी क्षमता के साथ यात्रा होगी. हालांकि आम मुसाफिरों को अभी इंतजार करना होगा.

सख्त होंगे नियम

पुरी ने कहा कि नियम कानून सख्त किए जाएंगे, ताकि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ाई भी जारी रहे और यात्रियों को भी सहूलियत प्रदान की जा सके. पहले चरण में मेट्रो के चलने पर सिर्फ सरकारी कर्मचारियों, स्वास्थ्यकर्मियों और अन्य अनिवार्य सेवाओं से जुड़े लोगों को सफर की सुविधा मिलेगी.

दिल्ली के अलावा यहां पर भी चलेगी मेट्रो

केंद्र सरकार केवल किसी एक महानगर या शहर में नहीं, बल्कि देश भर में मेट्रो सेवा को एक साथ खोलने पर विचार कर रही है. मंत्रालय ने भी मेट्रो व्यवस्था को सभी जगह फिर से खोलने पर जोर दिया है, क्योंकि सभी मेट्रो प्राधिकरण भारी नुकसान में हैं. साथ ही मेट्रो सेवा के बंद होने से सड़कों पर भी भारी जाम लग रहा है. अब इंतजार इसी महीने आने वाली अगले चरण के अनलॉक की गाइडलाइंस का है.

हर माह 300 करोड़ की चपत

आंकड़ों के मुताबिक 22 मार्च से बंद दिल्ली मेट्रो रेल निगम को अब तक 1350 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो चुका है. डीएमआरसी से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि दुनिया के कई शहरों में सहूलियत और सुरक्षा के साथ मेट्रो ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है. इसके तहत कम यात्रियों के लिए ट्रेनें संचालित की जा रही हैं. दुनिया के कई देशों में तो 50 फीसदी से भी कम यात्रियों के साथ मेट्रो ट्रेनें चलाई जा रही हैं.

कोरोना संक्रमण के चलते पिछले करीब चार महीने से दिल्ली मेट्रो बंद है. लेकिन संक्रमण के बीच दिल्ली मेट्रो के सभी कार्यालय, साइट और डिपो नियमित रूप से काम कर रहे हैं. दिल्ली मेट्रो का कुल नेटवर्क 389 किलोमीटर का है, जिस पर कुल 285 मेट्रो स्टेशन पड़ते हैं. वहीं 300 से अधिक मेट्रो ट्रेनें भी संचालित होती हैं.

खुले हैं सभी कार्यालय, साइट व डिपो

डीएमआरसी के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल ने आईएएनएस को बताया, कोविड महामारी के दौरान मेट्रो ट्रेनें यात्री सेवाओं के लिए उपलब्ध नहीं हैं, मगर दिल्ली मेट्रो के सभी कार्यालय, साइट, डिपो इत्यादि नियमित रूप से कार्य कर रहे हैं. उन्होंने बताया, मेट्रो के सभी 12 डिपो में पूरी क्षमता से कर्मचारी सेवारत हैं और ट्रेनों का रखरखाव पूर्ववत चल रहा है.

हर लाइन पर सुबह और शाम तकनीकी आवश्यकतानुसार ट्रेनें चलाई जा रही हैं, जिससे पूरे सेक्शन का निरीक्षण सुनिश्चित हो सके. अभी तक सरकार द्वारा दिल्ली मेट्रो को शुरू करने की इजाजत नहीं दी गई है और इस वजह से मेट्रो सेवाएं अभी तक बंद हैं. गौरतलब है कि कई राज्यों में अधिकतर चीजों को वापस खोल दिया गया है. ऐसे में ऑफिस भी शुरू हो गए हैं और लोग खुद को सुरक्षित रखते हुए घरों से बाहर निकलकर अपने कामों को करने लौट भी रहे हैं. लेकिन दिल्ली में मेट्रो न चलने से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं.

This Article First Published On ZEENEWS