पिता का सपना था उड़नखटोले से दी जाए लाड़ली बेटी को विदाई , फिर जो हुआ उसे देख कर गांव में लग गया मेला


इस दुनिया में अगर कोई सबसे इमोशनल रिश्ता होता है तो बाप-बेटी का रिश्ता। बेटी के जन्म से ही बाप की एक ख्वाइश होती है की उसकी बेटी को बड़ी कामयाबी मिले जहाँ भी जाए हमेशा हस्ती खिलखिलाती रहे। हर बाप का अपनी बेटी को लेकर एक ही सपना होता है की उसकी बेटी ससुराल में हमेशा ख़ुशी से रहे और अच्छे भले परिवार में जाए। एक बाप अपनी बेटी की बढ़िया शादी करने के लिए जी जान लगा देता है उसके लिए लाखो खर्च कर देता है ताकि उसकी बेटी हमेशा खुश रहे। ऐसा ही एक मामला आया जहाँ एक बाप ने बेटी की बिदाई हेलीकाप्टर से की जी हाँ आइये जानिए।

दरअसल ये मामला उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले का है जहाँ एक पिता ने अपनी बेटी की विदाई इतनी धूमधाम से की जिसे देखकर इलाके के लोग दंग रह गए.इस पिता का सपना था कि उनकी बेटी हवा में उड़कर अपने ससुराल जाए. जब उनकी बेटी पैदा हुई थी, तब से ही पिता कहा करते थे कि उनकी लाडली हवा में उड़कर अपने ससुराल जाएगी. इसके लिए उन्होंने अपनी बेटी को शादी के बाद  हेलीकॉप्टर से विदा किया. इस पिता के सपने को पूरा करने के लिए स्थानीय प्रशासन भी साथ आया. इसके लिए प्रशासन ने गांव में हेलीपैड तक बनवा दिया.

दरअसल रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रतापगढ़ के सदर विकास खंड के सरायसागर गांव की रहने वाली उर्वशी सिंह प्राइमरी की शिक्षिका हैं. उनके पिता विनोद कुमार सिंह भी प्राइमरी स्कूल में शिक्षक हैं. उर्वशी सिंह की शादी लालगंज के रानीगंज कैथौला अर्जुनपुर गांव के रहने वाले इंजीनियर अमित सिंह के साथ तय हुई थी. दोनों की 26 नवंबर को शादी थी. इसके अगले दिन यानी 27 नवंबर को दुल्हन की विदाई हुई. उर्वशी के पिता ने अपनी बेटी की शादी को यादगार बनाने के लिए हेलीकॉप्टर से विदाई की.

बता दे इसके लिए उन्होंने प्रशासन से अनुमति भी ली थी.इसकी चर्चा शादी से कई दिनों पहले ही पुरे गांव में होने लगी थी। जैसे ही शनिवार सुबह सरायसागर गांव में हेलीकॉप्टर पहुंचा तो पूरा गांव हेलीपैड के पास उमड़ पड़ा. उड़ान भरने से पहले 7 पुरोहितों ने हेलीकॉप्टर के चारों ओर परिक्रमा कर शंखनाद भी किया. जब इंजीनियर अमित सिंह अपनी दुल्हन उर्वशी को लेकर हेलीकॉप्टर से उड़े तो फूलों की वर्षा शुरू हो गई. इसके बाद सुबह लगभग साढ़े 11 बजे हेलीकॉप्टर दूल्हा और दुल्हन को लेकर चला गया।