अमिताभ बच्चन के नाम पर रजिस्टर्ड कार चला रहे थे ‘सलमान खान’, पुलिस ने पकड़कर किया थाने में बंद


बेंगलुरू आरटीओ ने यूबी सिटी के पास 22 अगस्त की शाम को एक विशेष अभियान शुरू किया था जिसमें उन्होंने करीब 17 कारों को जब्त कर लिया। खास बात ये है कि इन करोड़ो रुपये की कारों में रोल्स रॉयस फैंटम भी शामिल है जो कभी बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अमिताभ बच्चन की कार हुआ करती थी। अब ये सभी गाड़ियां सीटी आरटीओ के कब्जे में हैं। हालांकि बाद में ये जानकारी सामने आई की अमिताभ बच्चन से लग्जरी कार खरीदने वाले व्यक्ति ने इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन अपने नाम नहीं करवाया था।

बिग बी के नाम पर रजिस्टर्ड गाड़ी हुई जब्त

ऐसे में अधिकारियों ने गाड़ी के वर्तमान मालिक को जरूरी दस्तावेज पेश करने और गाड़ी को छुड़ाने के लिए कहा है। बता दें कि अलग अलग कारणों से इन गाड़ियों को जब्त किया गया है। जब्त कारों की सूची में रोल्स रॉयस फैंटम, लैंड रोवर रेंज रोवर इवोक, जगुआर एक्सजे एल, फरारी, ऑडी, आर8, पोर्शे और कुछ अन्य शामिल हैं।

वर्तमान मालिक और उमराह डेवलपर्स के मालिक बाबू ने कहा कि, ‘मैंने अभिनेता अमिताभ बच्चन को 6 करोड़ रुपये देकर इस रोल्स रॉयस को खरीदा है। मैंने पुरानी गाड़ी खरीदी है जो कि साल 2019 में अभिनेता के नाम पर थी। मैंने पंजीकरण के लिए नाम बदलने का आवेदन किया है लेकिन किसी कारण से ऐसा हो नहीं पाया’।

आगे उन्होंने कहा कि, ‘हमारे पास दो रोल्स रॉयस कार हैं जिसमें दूसरी नई है। मेरे बच्चे रविवार के दिन या किसी भी छुट्टी वाले दिन अमिताभ बच्चन की कार चलाना पसंद करते हैं। मेरी बेटी उस दिन इसी कार से कहीं जा रही थी जब इसे जब्त कर लिया गया’। अधिकारियों ने उसे शहर के बाहरी इलाके नेलामंगला में स्थित आरटीओ कार्यालय में आने के लिए कहा है। उनसे अनुरोध है कि उन्हें छोड़ दिया जाए। परिवहन विभाग के अतिरिक्त आयुक्त नरेंद्र होल्कर ने बताया कि सही दस्तावेज नहीं होने के कारण रोल्स रॉयस कार को जब्त कर लिया गया।

वहीं मालिक ने अमिताभ बच्चन द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र पेश किया है जिसमें कहा गया है कि वाहन उन्हें बेचा जा रहा है। एक और बेहद दिलचस्प बात ये है कि जिस वक्त कार को जब्त किया गया उसे उस वक्त जो ड्राइवर चला रहा था उसका नाम सलमान खान है। बता दें कि आरटीओ ने इन महंगी गाड़ियों के मालिकों को व्यक्तिगत रूप से वाहनों के दस्तावेज पेश करने के लिए कहा है।

आरटीओ अधिकारियों ने बताया कि क्योंकि आरटीओ में इन गाड़ियों का कोई दस्तावेज पेश नहीं किया था जिससे ये पता चला कि ये गाड़ी किसके नाम पर है ऐसे में उन्हें जब्त कर लिया गया। पुलिस ने इन गाड़ी के मालिकों से उचित दस्तावेजों के साथ अधिकारियों से मिलने के लिए कहा है। अगर इन गाड़ियों के मालिक वैध दस्तावेज पेश करते हैं तो पुलिस इन वाहनों को छोड़ देगी।