अग्निपथ योजना शुरू होने से पहले ही हुआ बवाल, बिहार से लेकर राजस्थान तक हो रहा विरोध प्रदर्शन


अग्निपथ के तहत 4 साल के लिए युवाओं को सेना में भर्ती करने की योजनाओं का विरोध करते हुए बिहार के बक्सर में युवा रेलवे ट्रैक पर उतरे गए हैं। केंद्र सरकार के खिलाफ नारे बाजी करते हुए लोगों ने कई ट्रेनों को रोक दिया। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस और GRP ने अभ्यर्थियों को समझाने का भी प्रयास किया, लेकिन वे फिलहाल अपनी मांगों पर अड़े हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के अग्‍न‍िवीरों के लिए अग्‍न‍िपथ योजना की घोषणा करने अगले ही दिन यानी बुधवार को जगह-जगह प्रदर्शन शुरू हो गया है। बता दें, केंद्र सरकार ने 14 जून को सेना की तीनों शाखाओं- थलसेना, नौसेना और वायुसेना में युवाओं की बड़ी संख्या में भर्ती के लिए अग्निपथ भर्ती योजना शुरू की है। इस स्कीम के तहत नौजवानों को सिर्फ 4 साल के लिए डिफेंस फोर्स में सेवा देनी होगी। सरकार ने यह कदम तनख्वाह और पेंशन का बजट कम करने के लिए उठाया है।

दो साल से सेना बहाली बंद रहने से गुस्‍सा

मुजफ्फरपुर में सेना भर्ती बोर्ड के पास हंगामा कर रहे युवाओं को प्रशासन ने भगा दिया। इसके बाद गुस्साए अभ्यर्थी चक्कर चौक पर पहुंचे और वहां सड़क पर टायर जलाकर यातायात बाधित कर दिया। यहां से निकलने के बाद सभी भगवानपुर चौक पहुंचे और वहां हंगामा शुरू कर दिया। हंगामा कर रहे युवाओं का कहना है कि सेना में भर्ती के लिए दो साल पहले ही शारीरिक दक्षता परीक्षा पास करने के बाद भी उन्‍हें नौकरी नहीं मिली है उनका कहना है कि दो साल से सेना भर्ती कार्यालय का चक्‍कर लगाकर थक गए हैं, लेकिन कोई सही जवाब नहीं दिया जाता। युवाओं ने कहा कि इसके लिए कई बार डीएम को भी ज्ञापन दिया है। युवाओं का कहना था कि नौकरी के लिए उनकी उम्र गुजर रही है और सेना में भर्तियां रोक दी गई हैं लाठी चार्ज कर प्रशासन ने मुजफ्फरपुर में यातायात बहाल करने की कोशिश की है।

बेगूसराय में टायर जलाकर गुस्से का इजहार

बेगूसराय में आर्मी अभ्यर्थियों ने सेना में बहाली की मांग को लेकर और अग्निपथ स्कीम का जमकर विरोध किया। सैकड़ों की संख्या में अभ्यर्थियों ने बेगूसराय के हर-हर महादेव चौक को टायर जलाकर जाम कर दिया। सरकार ने सेना में चार साल की बहाली की घोषणा की है, जिसे अभ्यर्थी मानने को तैयार नहीं हैं। उनका आरोप है कि वो तीन-चार साल तैयारी करते हैं, उसके बाद उन्हें 4 साल की नौकरी लगेगी, उनका भविष्य खराब हो जाएगा। सरकार अग्नि पथ योजना को वापस ले। जाम की सूचना पर दर्जनों की संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा। आक्रोशित छात्रों को समझाने का प्रयास किया लेकिन एक घंटे तक छात्रों ने एक बात नहीं सुनी। हंगामा कर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। हर-हर महादेव चौक पर ही जदयू विधायक राजकुमार सिंह के घर पर निजी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचने वाले हैं। बाद में पुलिसवालों ने छात्रों को हटाकर जाम को खत्म कराया।

बक्‍सर में 45 मिनट तक जाम रहा रेलवे ट्रैक

दानापुर रेल मंडल के अंतर्गत पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय जंक्‍शन – पटना जंक्‍शन रेलखंड के बक्‍सर रेलवे स्टेशन पर छात्रों ने खूब बवाल काटा है। सौ से अधिक की संख्या में रहे छात्रों ने रेल पटरी पर बैठ कर ट्रैक को करीब 45 मिनट तक जाम किए रखा। इस बीच ट्रैक जाम रहने के कारण बक्सर में जनशताब्दी एक्सप्रेस करीब 25 मिनट तक खड़ी रही। हालांकि, मौके पर मौजूद आरपीएफ प्रभारी दीपक कुमार और जीआरपी थनाध्यक्ष रामाशीष प्रसाद के काफी समझाने बुझाने के बाद ट्रैक छोड़कर छात्र हट गए और तब जनशताब्दी एक्सप्रेस यहां से खुली है।

पाटलिपुत्र एक्‍सप्रेस पर पथराव की अफवाह

इस दौरान बक्सर से गुजर रही पाटलिपुत्र एक्सप्रेस पर छात्रों द्वारा पथराव किए जाने की भी अफवाह उड़ी थी जिसका जीआरपी थनाध्यक्ष ने खंडन करते बताया कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है, शांतिपूर्ण प्रदर्शन के बाद छात्रों ने ट्रैक खाली कर दिया। इधर ट्रैक जाम की संभावना को देखते हुए भारी संख्या में रेल पुलिस के जवान किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए मौके पर मौजूद थे।

अग्निपथ स्कीम का क्यों विरोध कर रहे अभ्यर्थी?

14 जून को केंद्र सरकार ने सेना की तीनों शाखाओं (थलसेना, नौसेना और वायुसेना) में युवाओं की बड़ी संख्या में भर्ती के लिए अग्निपथ भर्ती योजना की घोषणा की। इसके तहत नौजवानों को सिर्फ 4 साल के लिए डिफेंस फोर्स में सेवा देनी होगी। इसके बाद इसमें से एक चौथाई युवाओं की नौकरी स्थाई होगी बाकी को रिटायर कर दिया जाएगा। माना जा रहा है कि सरकार ने ये कदम तनख्वाह और पेंशन का बजट कम करने के लिए उठाया है। मगर अभ्यर्थियों को ये सरकारी स्कीम रास नहीं आ रही है। दरअसल, सेना में जितनी भी भर्तियां होंगी, वो अग्निपथ स्कीम के तहत ही होंगी। पुराने मेडिकल या फिजकल टेस्ट को नहीं माना जाएगा। भर्ती के लिए युवाओं को अग्निपथ स्कीम के तहत ही अप्लाई करना होगा।