80 वर्ष की उम्र में दादी ने जीते दो गोल्ड और एक सिल्वर मैडल, रोज़ घंटो भर करती है भाला फेकने की प्रैक्टिस


आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे है जिनकी उम्र 80 साल है पर फिर भी उन्होंने हाल ही में नेशनल मास्टर्स एथेलेटिक्स चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और 2 गोल्ड मैडल समेत एक सिल्वर मैडल भी जीता | मैडल जीतने के बाद से ही वो हर जगह चर्चा का विषय बन गई है | हम जिस महिला की बात कर रहे है उनका नाम संतोषी देवी है |

80 वर्ष की उम्र में जीता मैडल


संतोषी देवी हरियाणा के पानीपत के पास गांव कारद की रहने वाली है , पर फिलहाल वो अपने बेटे रविंद्र मलिक के साथ भिवानी में रह रही है | संतोषी देवी ने 80 वर्ष की उम्र में 100 और 200 मीटर की दौड़ में हिस्सा लिया और दोनों में गोल्ड मैडल जीता इसके अलावा उन्होंने जेवलिन थ्रो में भी हिस्सा लिया और उसमे सिल्वर मैडल हासिल किया | जब उनके इलाके के लोगों को उनकी इस उपलब्धि के बारे में पता चलता है तो वो भी हैरान हो जाते है |

दादी ने बताई अपनी डाइट


जब मीडिया ने संतोषी देवी से बात की तो उन्होंने बताया की “हमारे ज़माने के लोग दूध , घी दाल चूरमा और दलिये जैसी पौष्टिक चीज़े ही खाते थे , अब बाज़ार में खाने की अलग-अलग चीज़े आ गई है उस समय ये सब नहीं मिलता था | मैं आज भी चूरमा खाना ही पसंद करती हु और कभी भी अपने खाने में रिफाइंड तेल का इस्तेमाल नहीं करती” |

रोज़ रूटीन से करती है प्रैक्टिस


दादी ने आगे बताया की वो अभी भी अपना खाना देसी घी में ही बनाती है और यहाँ तक की फल भी अपने घर में लगे पेड़ो से तोड़ कर ही खाती है | संतोषी देवी के पोते ने बताया की उनकी दादी रोज़ रूटीन प्रैक्टिस करती है और वो अपने सभी काम खुद ही करती है |